Print this page
Saturday, 07 November 2020 19:18

Dr. Ganesh Dutt Chaturvedi

Written by
Rate this item
(1 Vote)

 

नई दिल्ली द्वारका में अभ्युदय पुरोहित संस्थान द्वारा प्रशस्ति पत्र प्राप्त करते हुए ज्योतिषाचार्य डॉ गणेश दत्त चतुर्वेदी

 

Publications:

1- वास्तुशास्त्रे विन्यासविचारः - पी.एच.डी. थीसिस  
2- जन्म लग्न से भावस्थ चन्द्रमा का शुभाशुभ फल
3- जातक की कुण्डली में लग्नेश और दशमेश हो
4- वास्तु शास्त्र - गृह निर्माण से पूर्व मुहूर्त अर्थात काल शुद्धि का विचार
5- वृष राशि की कुण्डली
6- जातक की कुण्डली में चन्द्रमा
7- आकस्मिक और प्रचुर धन लाभ
8- बुध अष्टम भाव में हो तो जातक विद्धान, धनवान  

 

  

वास्तुशास्त्रे विन्यासविचारः  - पी.एच.डी. थीसिस   

 

 

जन्म लग्न से भावस्थ चन्द्रमा का शुभाशुभ फल

 

जातक की कुण्डली में लग्नेश और दशमेश हो

 

 

वास्तु शास्त्र - गृह निर्माण से पूर्व मुहूर्त अर्थात काल शुद्धि का विचार

 

 

वृष राशि की कुण्डली

 

जातक की कुण्डली में चन्द्रमा

 

आकस्मिक और प्रचुर धन लाभ  

बुध अष्टम भाव में हो तो जातक विद्धान, धनवान  

 

   

 

 

Additional Info

  • Category: Civilian
  • Profession: Enterpreneur
  • Awards/पुरस्कार:

    undefined

  • Literary Books/पुस्तकें: undefined
Read 367 times Last modified on Tuesday, 10 November 2020 11:06
Super User

Latest from Super User