The Indian Intellectuals -
    भारतीय प्रबुद्ध वर्ग
    Slider
    Saturday, 07 November 2020 19:18

    Dr. Ganesh Dutt Chaturvedi

    Written by
    Rate this item
    (1 Vote)

     

    नई दिल्ली द्वारका में अभ्युदय पुरोहित संस्थान द्वारा प्रशस्ति पत्र प्राप्त करते हुए ज्योतिषाचार्य डॉ गणेश दत्त चतुर्वेदी

     

    Publications:

    1- वास्तुशास्त्रे विन्यासविचारः - पी.एच.डी. थीसिस  
    2- जन्म लग्न से भावस्थ चन्द्रमा का शुभाशुभ फल
    3- जातक की कुण्डली में लग्नेश और दशमेश हो
    4- वास्तु शास्त्र - गृह निर्माण से पूर्व मुहूर्त अर्थात काल शुद्धि का विचार
    5- वृष राशि की कुण्डली
    6- जातक की कुण्डली में चन्द्रमा
    7- आकस्मिक और प्रचुर धन लाभ
    8- बुध अष्टम भाव में हो तो जातक विद्धान, धनवान  

     

      

    वास्तुशास्त्रे विन्यासविचारः  - पी.एच.डी. थीसिस   

     

     

    जन्म लग्न से भावस्थ चन्द्रमा का शुभाशुभ फल

     

    जातक की कुण्डली में लग्नेश और दशमेश हो

     

     

    वास्तु शास्त्र - गृह निर्माण से पूर्व मुहूर्त अर्थात काल शुद्धि का विचार

     

     

    वृष राशि की कुण्डली

     

    जातक की कुण्डली में चन्द्रमा

     

    आकस्मिक और प्रचुर धन लाभ  

    बुध अष्टम भाव में हो तो जातक विद्धान, धनवान  

     

       

     

     

    Additional Info

    • Category: Civilian
    • Profession: Enterpreneur
    • Awards/पुरस्कार:

      undefined

    • Literary Books/पुस्तकें: undefined
    Read 332 times Last modified on Tuesday, 10 November 2020 11:06

    Leave a comment

    Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

    Submit
    Profile/Article
    अपने
    लेख/प्रोफाइल
    भेजने के लिए
    Slider
    previous arrow
    next arrow
    Slider

    Filter and Search

    © 2021 The Indian Intellectuals. All Rights Reserved. | XML Sitemap